Saturday, September 19, 2009

नया हक

एक पोस्ट लिख देने से, नया हक मिल जायेग॥
गुमनाम बंदे की किस्मत,उसे नाम मिल जायेगा॥

अब तो जान गये हो,क्या चमन खिल जायेगा।
ज्यादा लिख देंगे तो, सारा जहां हिल जायेगा॥


सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्रयम्बकं गौरि नारायणि नमस्तुते॥

शुभ नवरात्रे।

13 comments:

  1. ज्यादा ही लिखिए । स्वागत है ।

    ReplyDelete
  2. आपका हिन्दी चिट्ठाजगत में हार्दिक स्वागत है. आपके नियमित लेखन के लिए अनेक शुभकामनाऐं.

    एक निवेदन:

    कृप्या वर्ड वेरीफीकेशन हटा लें ताकि टिप्पणी देने में सहूलियत हो. मात्र एक निवेदन है.
    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:

    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>Show word verification for comments?> इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें.

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग जगत में स्वागत हैं आपका.........आपको हमारी शुभकामनायें
    सतत लेखन के लिए बधाई

    ReplyDelete
  4. चिटठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. सार्थक लेखन के लिए शुभकामनाएं. जारे रहें.
    ---

    Till 25-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

    ReplyDelete
  5. अजी, इतने से क्या होता है आप तो खूब लिखिए......

    ReplyDelete
  6. तो किसी और की सन्तुष्टि के लिए ब्लॉग खोलना पड़ा आपको?

    अब खोल ही लिया है तो कुछ सकारात्मक लिख डालिए। स्पष्टवादी होना अच्छा है, लेकिन छिद्रान्वेषी होना उतना अच्छा नहीं।

    अन्धकार को क्यों धिक्कारें, नन्हा सा एक दीप जलाएं।

    ReplyDelete
  7. swagat hai aapka blog ki duniya me....sath hi navratree ki hardik subhkamnaye

    ReplyDelete
  8. आपका स्वागत है
    आपको पढ़कर अच्छा लगा
    शुभकामनाएं


    *********************************
    प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में |
    प्रत्येक रविवार सुबह 9.00 बजे शामिल
    होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
    प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
    साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
    *********************************
    क्रियेटिव मंच

    ReplyDelete
  9. चलिये तूफान मचाइये अपने लेखन से, आपका स्वागत है चिट्ठाजगत में...समीर जी का निवेदन सभी का निवेदन समझें

    ReplyDelete

  10. गुटनिरपेक्ष सि.शँ.त्रिपाठी जी को शँका निवारण आहुति दिये बिना हक़ आप कैसे जता रहे हैं, भला ?

    ReplyDelete
  11. चलिये तूफान मचाइये अपने लेखन से, आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  12. दीपावली की ढेरो शुभ कामना !

    लक्ष्मी और गणेश की सदा आप और आपके परिवार पर मेहरवान रहे /

    ReplyDelete

असभ्य भाषा की टिप्पनियां मिटा दी जायेंगी। अपनी बात भाषा की मर्यादा में रह कर करें।